Pathankot City



बिजली कटों से मिलेगी राहत

Local News and Events

work-of-changing-the-maintenance

गर्मियों में उपभोक्ताओं को निर्विघ्न बिजली सप्लाई देने के लिए पावरकाम ने तैयारियां शुरू कर दी है। पावरकाम ट्रांसफार्मरों की क्षमता बढ़ाने के साथ नए यंत्र लगा रहा हैं। वहीं सब स्टेशनों की मरम्मत का काम भी तेजी से हो रहा है। अधिकारियों का दावा है कि इसके बाद आगामी तीन वर्षों तक ओवरलोडिग की समस्या से निजात मिल जाएगी। मरम्मत का काम होने के बाद शहरवासियों को भी बिजली कटों का सामना नहीं करना पड़ेगा।

शहर को सप्लाई करते हैं पांच ट्रांसफार्मर

शहर के करीब 85 हजार उपभोक्ताओं को 132 केवी सब स्टेशन के पांच ट्रांसर्फामरों से बिजली सप्लाई की जाती है। इसके तहत टी-1 की क्षमता 20 मैगावाट एंपेयर, टी-2 20 मैगावाट एंपेयर, टी-3 25 मैगावाट एंपेयर, टी-4 16 मैगावाट एंपेयर व टी-5 20 मैगावाट एंपेयर क्षमता है। वर्तमान समय में बिजली की ज्यादा खपत न होने के कारण यह 40 से 50 की क्षमता पर चल रहे हैं, लेकिन जून से अगस्त तक यह 85 से 90 की क्षमता पर पहुंच जाते हैं। 90 पार होने के बाद सब स्टेशन द्वारा एरिया वाइज सप्लाई को रोक कर चलाना पड़ता है। लेकिन पुराने यंत्रों को बदलने के बाद इस बार यह 90 के आस-पास ही रहेगी, जिससे स्थानीय स्तर पर लगने वाले बिजली कटों से लोगों को निजात मिलेगी।

ट्रांसफार्मरों की क्षमता बढ़ाने के साथ-साथ पुराने यंत्रों को किया जा रहा तबदील

पावरकाम सिटी डिवीजन के सीनियर एक्सईएन इंजीनियर गगनदीप भास्कर व सब अर्बन डिवीजन के सीनियर एक्सईएन कुलदीप सिंह ने कहा कि गर्मियों को देखते हुए विभागीय स्तर पर पिछले महीने ही लोड के मुताबिक ट्रांसफार्मरों को बदलने का काम शुरू किया गया है। इसके अलावा मेन लाइन के उपर से गुजरने वाले पेड़ों की छंटाई भी करवाई जा रही है, ताकि हवा के कारण तार को कोई नुकसान न हो। दोनों डिवीजनों में करीब 100 नए ट्रांसफार्मर लगाए जा रहे हैं। जबकि, 75 के करीब ट्रांसफार्मरों की क्षमता को बढ़ाया जा रहा है, ताकि लोगों को लो-वोल्टेज की समस्या का सामना न करना पड़े। थोड़ा बहुत जो काम शेष बचा है उसे भी अगले पंद्रह-बीस दिनों के भीतर पूरा करवाकर उपभोक्ताओं को राहत पहुंचाई जाएगी।कहा कि पुराने यंत्रों को बदलने के बाद लोगों को जो लोकल स्तर पर बिजली कटों का समाना करना पड़ता था वह नहीं झेलना पड़ेगा।

अगले दो वर्षों तक नहीं आएगी ओवरलोडिग की समस्या

132 केवी सब स्टेशन के सीनियर सब इंजीनियर (एसडीओ) विश्वजीत ने कहा कि गर्मियों को देखते हुए विभागीय स्तर पर सब स्टेशनों की मरम्मत का कार्य करवाया जा रहा है। इसके तहत उनके अधीन आते 132 केवी सब स्टेशन तथा सरना 220 केवी के कंडक्टर, बस बार सहित पुराने हो चुके सभी यंत्रों को बदलने का काम करवाया जा रहा है। पिछले दिनों दो बार विशेष परमिट लेकर यंत्रों की मेंटीनेंस की गई है, ताकि गर्मियों में लोड बढ़ने के कारण कोई समस्या न आए। मेंटीनेंस व पुराने यंत्रों को बदलने के बाद अब अगले दो वर्षों तक सब स्टेशन के ओवरलोडिग होने की कोई गुंजाइश नहीं रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published.


0 Comments


    Copyright © 2021 About Pathankot | Website by RankSmartz (open link)