20 फरवरी तक वेतन नही दिए जाने की सूरत में कामकाज होगा ठप्प

सफाई कर्मचारियों को रूके हुए वेतन में से दो महीने का वेतन 10 फरवरी तक देने का वादा करने वाला नगर निगम वादा पूरा नहीं कर पाया है। जिसके चलते सफाई कर्मचारी दलों में रोष व्याप्त है।

सोमवार को कर्मचारी दलों ने मिलकर नगर निगम के खिलाफ गेट रैली करके रोष जताया। अखिल भारतीय सफाई मजदूर यूनियन और स्वच्छ भारत सफाई मजदूर यूनियन के बैनर तले सफाई कर्मचारियों ने निगम के खिलाफ जमकर भड़ास निकाली। गेट रैली की अगुवाई कर रहे यूनियन प्रतिनिधि रमेश दरोगा, रमेश कटटो, दीपक भटटी, जतिंदर सिंह चीना आदि ने निगम को चेतावनी दी कि अगर 20 फरवरी तक उनका बकाया वेतन नहीं दिया जाता और उनकी सभी समस्यांए हल नहीं की जाती हैं तो वह काम बंद करके हड़ताल करेंगे।

इस अवसर पर दीपक भटटी, रमेश दरोगा, रमेश कटटो, जतिंदर चीना ने बताया कि सफाई कर्मचारियों का करीब चार महीने का वेतन रूका हुआ है। नगर निगम कब से यह वेतन जारी करने में आनाकानी कर रहा है। नगर निगम की इस लापरवाही के कारण सफाई कर्मचारियों के लिए घर चलाना मुश्किल हो चुका है। इसके चलते कुछ दिन पहले निगम के साथ हुई टेबल टॉक में यह मुददा उठाया गया था।

जिसके बाद मेयर और कमिश्नर ने आश्वासन दिया था कि 10 फरवरी तक दो महीने का वेतन दे दिया जाएगा। लेकिन 10 फरवरी के दो दिन बाद भी सफाई कर्मचारियों को वेतन नहीं मिला है। उन्होनें कहा कि यदि 20 फरवरी तक नगर निगम सफाई कर्मचारियों को वेतन नहीं देता है तो उसके बाद काम छोड़ हड़ताल की जाएगी। पूरे शहर में हड़ताल होने से सफाई नहीं हो पाएगी। इसकी सारी जिम्मेदारी मेयर और निगम कमिश्नर की होगी।

Share This:

Review

    Please comment with your real name using good manners.

    Leave a Reply

    33 − 29 =