सडक़ की खस्ताहालत को लेकर लोगों

खानपुर चौंक से माधोपुर रोड़ एक ऐसा व्यस्तम मार्ग है,जिस पर प्रतिदिन जहां दिन रात वाहनों की आवाजाही रहती है, वहीं उक्त मार्ग वाहन चालकों के लिए पड़ोसी राज्य जम्मू-कश्मीर जाने हेतु एक शार्टकट के रूप में भी विकसित है। इस मार्ग पर वर्ष 2017 में नवनिर्मित पुल अपने अस्तित्व में आने से पहले ही अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहा है।

पुल के दोनों ओर सडक़ अत्यंत दुखदायी स्थिति में है। आएं दिन लोग मार्ग में पड़े बड़े-बड़े पत्थरों से चोटिल हो रहे है। क्षेत्रवासियों को लगता है कि हलका विधायक व प्रशासनिक अधिकारी तभी कुंभकर्णी नींद से जागेंगे, जब क्षेत्रवासी उग्र प्रदर्शन पर उतर आएंगे। इस संबंधी जानकारी देते हुए मणिमहेश सेवा समिति गौंसाईपुर के सदस्य विजय शर्मा व अन्य लोगों ने बताया कि विगत दिनों उनके द्वारा शांतिमय ढंग से प्रदर्शन करके उक्त मामला सरकार के संज्ञान में लाया गया था, लेकिन उसके बावजूद भी आजतक कोई कार्रवाई नही की गई। उन्होंने कहा कि हलका विधायक को चाहिए कि वह जरा स्कूटर व साइकिल के माध्यम से उक्त सडक़ से गुजरे तो उन्हें स्वंय महसूस होगा कि जनता का गिड़गिड़ाना ठीक है या नही…?। उन्होंने कहा कि सबसे ज्यादा समस्या स्कूली विद्यार्थियों को उठानी पड़ती है, क्योंकि जब वह उक्त मार्ग से गुजरते है तो उन्हें साइकिल से उतर पर कडक़डाती धूप में पैदल चलना पड़ता है ताकि वह किसी हादसे का शिकार न हो जाएं।

उन्होंने कहा कि उन्हें ऐसा प्रतीत होता है कि शायद हलका विधायक व जिला प्रशासनिक अधिकारी किसी बड़े हादसे का इंतजार कर रहे है।

उन्होंने कहा कि आज जिस प्रकार उक्त पुल के दोनों तरफ सडक़ की हालत है तो वह हर बार यहीं सोचते है कि पुल न ही बनता तो अच्छा था। उन्होंने विधायक व जिला प्रशासनिक अधिकारियों से मांग करते हुए कहा कि यदि उन्होंने शीघ्र पुल के दोनों तरफ खस्ताहालत सडक़ की सुध नही ली तो वह उग्र रूप धारण करने हेतु मजबूर होंगे। जिसकी जिम्मेदारी विधायक व जिला प्रशासन की होगी।

Share This:

Review

    Please comment with your real name using good manners.

    Leave a Reply

    + 51 = 56